Collection of Rahat Indori Shayari in Hindi

Rahat Indori Shayari in Hindi

If you are a Shayari lover than you will definitely have a favourite Shayari which is written by Dr. Rahat Indori. Rahat Indori's shayari is world famous and if you are his fan, then you are at the right place to find Top Hindi Shayaris by Rahat Indori.

His shayari "बुलाती है मगर जाने का नहीं, ये दुनिया है, इधर आने का नहीं, मेरे बेटे किसी से इश्क़ कर, मगर हद्द से गुज़र जाने का नहीं", is very popular among youngsters now a days.

If you want to find the most famous shayaris of Rahat Indori of different categories then please check our collection of Hindi Shayari by Rahat Indori. So without wasting much time, let's move to the main content. 

Rahat Indori shayari in Hindi about Life

Rahat Indori Shayari Images

    "नफरत का बाजार  ना बन,
    फूल खिला, तलवार ना बन,

    रिश्ता रिश्ता लिख मंज़िल,
    रस्ता बन दिवार ना बन..... "
        
    (Rahat Indori Shayari in Hindi)

    "समुंदरों के सफर में हवा चलाता है,
    जहान खुद नहीं चलता , खुदा चलता है

    तुझे खबर नहीं मेले में घूमने वाले ,
    तेरी दूकान कोई और चलाता है,

    हम अपने बूढ़े चरागों पे खूब इतराये,
    और उसको भूल गए जो हवा चलाता है,

    ये लोग पाँव नहीं ज़हन के अपाहिज हैं,
    उधर चलेंगे जिधर रहनुमा चलाता है......."
                                                        

    "जरूर वो मेरे बारे में राये दे लेकिन,
    ये पूछ लेना कभी मुझसे वो मिला भी है ....."

     "सारे बादल हों उसी के, वो अगर चाहे तो 
    मेरे तपते हुए सहरा को समंदर करदे......"

    Rahat Indori shayari Images

     "टूट कर बिखरी हुयी तलवार के टुकड़े समेट ,
    और अपने हार जाने का सबब मालूम कर......"

    (Rahat Indori Shayari in Hindi)

    "अब ना मैं वो हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे,
    फिर भी मशहूर हैं, शहरों में फ़साने मेरे,
    ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जायेंगे,
    अब भी बाकी है कई दोस्त पुराने मेरे......"



    "चढ़ी हुयी है जो नदी, उतर भी सकती है,
    जो मौत बाँट रही है, वो मर भी सकती है,
    ज़रा सा लहजे को तब्दील करके देखा था,
    पता चला कि ये दुनिया दर भी सकती है...... "


    "ये हवाएं उस ना जाएं लेके कागज़ का बदन,
    दोस्तों मुझ पर कोई पत्थर जरा भारी रखो......"


     "हमारे सर की फटी टोपियों पे तंज ना कर,
    हमारे ताज अजायबघरों में रखे हैं......"

    (Rahat Indori Shayari in Hindi)

    "एक ही नदी के हैं ये दो किनारे दोस्तों,
    दोस्ताना ज़िन्दगी से , मौत से यारी रखो....."


    Rahat Indori Shayari Images

    "आँखो में पानी रखो, होठों पे चिंगारी रखो,
    ज़िंदा रहना है तो, तरकीबें बोहत सारी रखो,
    राह के पत्थर से बढ़के कुछ नहीं हैं मंज़िलें,
    रास्ते आवाज़ देते हैं, सफर जारी रखो....."


    "अफवाह थी मेरी तबियत खराब है,
    लोगों ने पूछ पूछ कर बीमार करदिया,
    दो गज सही, ये मेरी मिलकियत तो है ,
    ऐ मौत तूने मुझे जमींदार करदिया ....."


    "लोग हर मोड़ पे रुक रुक कर सँभलते क्यों हैं,
    इतना डरते हैं तो घर से निकलते क्यों हैं......"

    Rahat Indori shayari in Hindi about Love 

    Rahat Indori Shayari Images


     "तेरी हर बात मोहब्बत में गवारा कर के,
    दिल के बाज़ार में बैठे हैं ख़सारा करके,
     मुंतज़िर हूँ कि सितारों की ज़रा आंख तो लगे,
    चाँद को छत पे बुला लूँगा इशारा करके ....."

    (Rahat Indori Shayari in Hindi)

     "बुलाती है मगर जाने का नहीं,
    ये दुनिया है इधर जाने का नहीं,
    मेरे बेटे किसी से इश्क़ कर,
    मगर हद्द से गुज़र जाने का नहीं....."


     "किसी ने ज़हर कहा है, किसी ने शहर कहा है,
    कोई समझ नहीं पाता है ज़ायका मेरा......"


    "भेजदी तस्वीर अपनी उनको ये लिखकर शकील, 
    आप की मर्ज़ी है चाहे जिस नज़र से देखिये......"

    Rahat Indori Shayari Images

    "फूलों की दूकान खोलो, खुशबू का व्यापार करो,
    इश्क़ खता है तो ये खता, एक बार नहीं सौ बार करो..... "

    (Rahat Indori Shayari in Hindi)

     "मेरे अधूरे शेर में थी कुछ कमी मगर, 
    तुम मुस्कुरा दिए तो मुझे दाद मिल गयी......"


     राज़ जो कुछ हो इशारों में बता भी देना,
    हाथ जब उससे मिलाना तो दबा भी देना ....... 

    "रोज़ तारों की नुमाइश में खलल पड़ता है,
    चाँद पागल है, अँधेरे में निकल पड़ता है......"


    एक एक हर्फ़ का अंदाज़ बदल रखा है,
    आज से हमने तेरा नाम ग़ज़ल रखा है,
    मैंने शाहों की मोहब्बत का भरम तोड़ दिया,
    मेरे कमरे में भी एक ताज महल रखा है......

    (Rahat Indori Shayari in Hindi)


    Rahat Indori Shayari Images

    "जुबां तो खोल, नज़र तो मिला,
    जवाब तो दे,
    मैं कितनी बार लुटा हूँ ,मुझे हिसाब तो दे........"


    "चलते फिरते महताब दिखाएंगे तुम्हें ,
    हमसे मिलना , कभी पंजाब दिखाएंगे तुम्हें,
    चाँद हर छत पर है,
    सूरज है हर आंगन में,
    नींद से जागो तो कुछ ख्वाब दिखाएंगे तुम्हें....."


    "यूं तो हर फूल पे लिखा है तोड़ो मत,
    दिल मचलता है तो कहता है छोड़ो मत......"


    Rahat Indori Sad Shayari in Hindi

    "होंसले ज़िन्दगी के देखते हैं ना,
    चलिए कुछ रोज़ जी कर देखते हैं ना,

    नींद पिछली सदी से ज़ख़्मी है ,
    ख्वाब अगली सदी के देखते हैं ना,

    बारिशों से तो प्यास बुझती नहीं,
    आईये ज़हर पी के देखते हैं ना....."

    (Rahat Indori Shayari in Hindi)

    Rahat Indori Shayari Images

    "हमारे ख्वाब तो शहर की सडकों पर भटक रहे थे,
    तुम्हारी याद थी, जो रात भर बिस्तर पे रखी थी......"


    "अपने होने का हम इस तरह पता देते थे,
    खाक मुट्ठी में उठाते थे , उड़ा देते थे,

    बे-समर जान के हम काट चुके हैं शजर,
    याद आते हैं के बेचारे हवा देते थे

    उसकी महफ़िल में वही सच था , वो जो कुछ भी कहे, 
    हम भी गूंगों की तरह हाथ उठा देते थे ......."


    "लम्हा-लम्हा मुझे जंगल का सफर लगता है,
    खो ना जाऊं कहीं मैं भीड़ में, दर लगता है,
    साथ ये भी ना कहीं छोड़ दे दुनिया की तरह,
    अपनी तन्हाई से अक्सर मुझे डर लगता है......." 


    Rahat Indori Shayari Images

    " है गलत उसको बेवफा कहना,
    हम कहाँ के धुले धुलाये थे,
     आज कांटो भरा मुकद्दर है,
    हमने गुल भी बोहत खिलाये थे......"

    (Rahat Indori Shayari in Hindi)

     "दिलों में आग, लबों पर गुलाब रखते हैं,
    सब अपने चेहरों पे दोहरी नकाब रखते हैं "


     "मैं वो दरिया हूँ की हर बूँद भंवर है जिसकी,
    तुमने अच्छा ही किया मुझसे किनारा करके......."
     

    "जो भी मिलता है उसे अपना समझ लेता हूँ मैं, 
    एक बीमारी मुझे ये खानदानी और है......."


     "जवान आँखों में जुगनू चमक रहे होंगे,
    अब अपने गाँव में अमरुद पक रहे होंगे,
    भुलादे मुझको मगर, मेरी उँगलियों के निशान 
    तेरे बदन पे अभी तक चमक रहे होंगे ......"

    (Rahat Indori Shayari in Hindi)

    "अब हम मकान में ताला लगाने वाले हैं, 
    पता चला है वहाँ मेहमान आने वाले हैं......."


    Rahat Indori Shayari Images

    "तुम क्या जानो क्या है तन्हाई ,
    इस टूटे हुए पत्ते से पूछो क्या है जुदाई,
    यूं बेवफा का इलज़ाम ना दे ज़ालिम,
    इस वक़्त से पूछ किस वक़्त तेरी याद ना आई......."


    "हाथ खाली है तेरे शहर से जाते-जाते,
    जान होती तो मेरी जान लुटा जाते,
    अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,
    उम्र गुज़री है तेरे शहर से आते जाते......"


     "फूंक डालूंगा मैं किसी रोज़ दिल की दुनिया,
    ये तेरा खत तो नहीं है की जला भी ना सकूं......."

    (Rahat Indori Shayari in Hindi)

    Rahat Indori Shayari Images

    "मैं तो जलते हुए सहराओं का एक पत्थर था ,
    तुम तो दरिया थे, मेरी प्यास भुजाते जाते ......"


    "ना हमसफ़र, ना किसी हम-नशीं से निकलेगा,
    हमारे पाँव का काँटा हमीं से निकलेगा....."

     
    "इन  रातों से अपना रिश्ता  जाने कैसा रिश्ता है,
    नींद कमरों में जागी है, ख्वाब छतों पर बिखरे हैं ......."


     
    And shayari lovers, it was our Collection of Rahat Indori Shayari in Hindi. Let us know in the comment's section if we forgot to add any of his famous Hindi Shayari. Also tell us which Shayari by Rahat Indori is your personal favourite. 

    If you want a collection of shayaris of your favourite poet, then also tell us about him in comments. Until then share this collection with your friends.

    Post a Comment

    0 Comments